मित्रों के साथ अभी शेयर करें

About Nobel Prize in Hindi- नोबेल पुरस्कार (Nobel Puraskar history in Hindi)

आज के इस ब्लॉग में हम नोबेल पुरस्कार के बारे में जानेंगे (About Nobel Prize in Hindi)| नोबेल पुरस्कार (Nobel Puraskar in Hindi) विश्व का सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार है, जिसे स्वीडन के “नोबेल फाउंडेशन” द्वारा अल्फ्रेड नोबेल (about Alfred Nobel in Hindi) की स्मृति में 1901 से दिया जा रहा है|

पुरस्कारों की इस कड़ी में इससे पूर्व हम लोगों ने भारत के प्रमुख प्रतिष्ठित पुरस्कारों के बारे में जाना है| जिसमें हम लोग

की चर्चा कर चुके हैं|अब हम लोग विश्व के प्रतिष्ठित पुरस्कारों के बारे में जानेंगे, जिसमें सबसे पहले हम लोग नोबेल पुरस्कारों (Nobel Puraskar list in hindi) के बारे में जानेंगे|

परिचय (Information about Nobel Prize in Hindi)

नोबेल पुरस्कार का परिचय-

  • नोबेल पुरस्कार स्वीडन के नोबेल फाउंडेशन (Nobel Foundation) द्वारा दिया जाता है (Nobel Puraskar kon deta hai?)|
  • यदि प्रश्न पूछा जाए की नोबेल पुरस्कार की शुरुआत कब हुई (Nobel Puraskar ki shuruat kab hui) तो उसका उत्तर होगा की नोबेल पुरस्कार की शुरुआत 1901 से की गई है |
  • नोबेल पुरस्कार डायनामाइट के आविष्कारक अल्फ्रेड नोबेल की स्मृति में दिया जाता है|

यदि प्रश्न पूछा जाए की नोबेल पुरस्कार कितने क्षेत्र में दिया जाता है (Nobel Puraskar Kitne Kshetra me diya jata hai) तो उसका उत्तर होगा की नोबेल पुरस्कार निम्नलिखित क्षेत्रों में दिया जाता है-

  • शांति (Nobel Peace prize in hindi)
  • साहित्य (Nobel prize for literature in hindi)
  • भौतिकी (Nobel Prize for Physics in hindi)
  • रसायन (Nobel prize for Chemistry in hindi)
  • चिकित्सा (Nobel Prize for medicine in hindi)
  • अर्थशास्त्र (Nobel prize for economics in hindi)

के क्षेत्र में दिया जाता है|

नोबेल पुरस्कार की राशि कितनी है?- नोबेल पुरस्कार में प्रशस्ति पत्र के साथ उच्च धनराशि प्रदान की जाती है |

अल्फ्रेड नोबेल (Alfred Nobel Biography in hindi)-

यदि प्रश्न पूछा जाए की नोबेल पुरस्कार किसके नाम पर रखा गया (Nobel Puraskar kiske naam par rakha gaya) तो उसका उत्तर होगा अल्फ्रेड नोबेल|

  • अल्फ्रेड नोबेल का जन्म 21 अक्टूबर 1833 को स्वीडन में हुआ था|
  • अल्फ्रेड नोबेल ने बहुत से वैज्ञानिक आविष्कार किए थे, जिसमें सबसे प्रमुख 1867 में डायनामाइट का आविष्कार था।
  • अलफ्रेड नोबेल की मृत्यु दिसंबर 1896 को हुई थी|
  • मृत्यु से पूर्व अल्फ्रेड नोबेल ने अपनी संपत्ति का अधिकतम हिस्सा एक ट्रस्ट के लिए रख दिया था, जिसमें वसीयत के माध्यम से इच्छा व्यक्त की थी कि इस ट्रस्ट से आने वाले ब्याज से हर साल ऐसे लोगों को सम्मानित किया जाए, जो मानव जाति के कल्याण में लगे हुए हैं |

नोबेल पुरस्कार की शुरुआत होने की कहानी (Story about Nobel Prize in Hindi)-

नोबेल पुरस्कार के शुरुआत की बहुत ही रोचक कहानी है-

  • सन 1888 में एक अखबार में गलती से यह खबर छप गई की “मौत के सौदागर” की मृत्यु अर्थात अल्फ्रेड नोबेल की मृत्यु हो गई है|अखबार ने ऐसा उनके डायनामाइट के आविष्कार के कारण लिखा था लेकिन अखबार में उनके लिए “मौत के सौदागर” शब्द ने उन्हें पूरी तरह से हिला दिया था|अल्फ्रेड नोबेल को लगा कि उनकी मृत्यु के बाद दुनिया उन्हें मौत के सौदागर के रूप में ही याद करेगी तब उन्होंने निश्चय किया कि वे अपने व्यक्तित्व के इस दाग को मिटा देंगे|
  • अल्फ्रेड नोबेल ने अपनी संपत्ति की वसीयत करी जिसमें लिखा कि इस धन से प्राप्त आय से पूरी पृथ्वी पर मानवता के लिए उत्कृष्ट योगदान देने वालों को पुरस्कृत किया जाएगा और नोबेल फंड स्थापित किया| इसी फंड से 1901 से नोबेल पुरस्कार दिए जाने की शुरुआत की गई|

नोबेल फाउंडेशन-

नोबेल फाउंडेशन के बारे में महत्त्वपूर्ण जानकारी-

  • अल्फ्रेड नोबेल की वसीयत के आधार पर 29 जून 1900 को नोबेल फाउंडेशन की स्थापना की गई थी|

  • 1901 से नोबेल पुरस्कार की शुरुआत की गई थी अर्थात सबसे पहली बार नोबेल पुरस्कार 1901 में दिया गया था|

मूल नोबेल-

मूल नोबेल पुरस्कार-

  • शांति

  • साहित्य

  • भौतिकी

  • रसायन

  • चिकित्सा

इन पांच क्षेत्रों में दिया जाने वाला नोबेल पुरस्कार मूल नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize in hindi) माना जाता है|

नोबेल स्मृति पुरस्कार-

नोबेल स्मृति पुरस्कार के बारे में महत्त्वपूर्ण जानकारी-

  • अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार नोबेल स्मृति पुरस्कार के नाम से जाना जाता है|

  • अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार (Economics Nobel Prize in hindi) की शुरुआत 1968 में हुई थी|

नोबेल पुरस्कार की घोषणा-

नोबेल पुरस्कार की घोषणा प्रतिवर्ष अक्टूबर के महीने में की जाती है|

नोबेल पुरस्कार कब प्रदान किया जाता है?-

नोबेल पुरस्कार प्रतिवर्ष 10 दिसंबर को अल्फ्रेड नोबेल की पुण्यतिथि पर एक समारोह में दिया जाता है|

भारत के नोबेल पुरस्कार विजेता-

भारत के नोबेल पुरस्कार विजेता निम्न हैं-

  • नोबेल पुरस्कार प्राप्त करने वाले प्रथम भारतीय कौन थे? (Nobel Puraskar prapt karne wale pratham bhartiya kaun the)- सर्वप्रथम रविंद्र नाथ टैगोर को 1913 में साहित्य का नोबेल पुरस्कार दिया गया था (Rabindranath Tagore Nobel prize in hindi)|
  • आइए अब आगे हम अन्य नोबेल पुरस्कार प्राप्तकर्ता भारतीयों के बारे में जानते हैं और उसमें हम यह भी जानेंगे कि उन्हें किस वर्ष और किस क्षेत्र में पुरस्कार दिया गया|
Nobel Recipient Indians
नोबेल पुरस्कार प्राप्त करने वाले भारतीय

नोबेल पुरस्कार से जुड़े कुछ अन्य महत्वपूर्ण तथ्य (Other Important Information about Nobel prize in hindi)-

नोबेल पुरस्कार से जुड़े कुछ अन्य महत्वपूर्ण तथ्य-

  • 1974 से पहले मरणोपरांत भी नोबेल पुरस्कार दिए जाने का प्रावधान था, लेकिन 1974 में यह नियम बना दिया गया कि मरणोपरांत नोबेल पुरस्कार नहीं दिया जाएगा|

  • इंटरनेशनल कमेटी ऑफ़ रेड क्रॉस को तीन बार (1917, 1944 और 1963) में शांति का नोबेल पुरस्कार  दिया गया|

  • मलाला यूसुफजई सबसे कम उम्र में नोबेल पुरस्कार प्राप्त करता है|
  • गांधी जी को 5 बार 1937, 1938, 1939 1947 और 1948 में शांति पुरस्कारों के लिए नामित किया गया था लेकिन उन्हें इस पुरस्कार के लिए कभी चुना नहीं गया |

दो बार नोबेल पुरस्कार पाने वाले व्यक्ति-

दो बार नोबेल पुरस्कार पाने वाले व्यक्ति-

  • मैडम क्यूरी को 1930 और 1911

  • क्लीनर्स कॉलिंग को 1954 और 1962 मे

  • जान बार को 1956 और 1972 मे

  • फ्रेडरिक सिंगर को 1958 और 1980 मे

नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize in hindi) दिया गया था|

Conclusion-

आज के इस ब्लॉग में हम लोगों ने जाना कि नोबेल पुरस्कार क्या है (Nobel Puraskar kya hai)?,  नोबेल पुरस्कार कब से दिया जा रहा है?, किसकी स्मृति में दिया जाता है? किसके द्वारा दिया जाता है? और नोबेल पुरस्कार का इतिहास (History of Nobel Prize in hindi) और किन किन भारतीयों को यह पुरस्कार दिया जा चुका है।  

प्रतियोगी परीक्षाओं में नोबेल पुरस्कार के स्टैटिक दृष्टि से तो प्रश्न आते ही हैं, साथ ही पुरस्कारों का एक करेंट व्यू होता है, तो आपको एग्जाम में जाने से पहले जिस ईयर में आप एग्जाम दे रहे हैं उस करेंट ईयर में घोषित नोबेल पुरस्कार को पढ़कर के जाना चाहिए| मित्रों आज के ब्लॉग में बस इतना ही आगे फिर किसी नए खास टॉपिक के साथ हम लोग मिलेंगे| तब तक के लिए धन्यवाद|

इन्हे भी पढ़ें-

अपनी संघ लोक सेवा आयोग (UPSC exam), विभिन्न राज्य लोक सेवा आयोग (State PCS exams- UPPCS, MPPCS, BPSC etc), कर्मचारी चयन आयोग (SSC exam), अधीनस्थ सेवा चयन बोर्ड (Lower Subordinate), UPSI Exam, CPO SI, रेलवे भर्ती बोर्ड (RRB exam), UPSSSC Lekhpal, UPPET Exam, UP POLICE Exam, UPTET Exam, CTET, Super TET आदि बोर्डों द्वारा आयोजित विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं (Competitive exam) की तैयारी को और भी बेहतर करने के लिए अपनी आवश्यकता के अनुसार नीचे दिए गए Direct Links पर क्लिक करें।

  1. विविध General Studies के Important Topics के notes के लिए क्लिक करें।
  2. General Studies के Important Topics पर हमारी सभी Video Classes को देखने के लिए क्लिक करें।
  3. विषयानुसार YouTube Video Classes पर आधारित Free MCQ Quiz के लिए विजिट करें।
  4. विषयानुसार Chapter Wise Free Notes के लिए विजिट करें।
  5. विषयानुसार Topic Wise Free Objective Questions प्रैक्टिस के लिए विजिट करें।

यदि हमारे द्वारा provide कराया गया content आपकी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में उपयोगी साबित हो रहा है और आप संस्थान को शिक्षा के इस अभियान में कोई सहयोग करना चाहते हैं तो आप अपना सहयोग UPI के माध्यम से [email protected] या [email protected] पर कर सकते हैं। आपका छोटे से छोटा सहयोग संस्थान के इस शिक्षा अभियान को जारी रखने में मददगार होगा। 

error: Content is protected !!